X

गोल्ड क्यों

गोल्ड खरीद रहे हैं – अब समय है आधुनिक ऑप्शन्स को चुनने का

गोल्ड को खरीदना और भौतिक रुप से स्टोर करना तनाव भरा हो सकता है। लेकिन गोल्ड म्युच्युअल फन्ड या गोल्ड ईटीएफ के साथ आप गोल्ड को डायवर्सिफाय कर बिना किसी समस्या के सही तरीके से स्टोर कर सकते हैं।

गोल्ड निवेश का पारंपरिक तरीका
गोल्ड लम्बे समय से एक सुरक्षित संपत्ति के रुप में हमारे सामने रहा है और या तो इसे बेचा जाता है अथवा कठिनाई के समय अंतिम उपाय के रुप में नकदी में बदला जाता है।

आधुनिक गोल्ड विकल्पों के बारे में जानकारी
किसी भी इन्वेस्टर को निवेश मूल्य की स्थिरता, पूंजी की सुरक्षा, सही रिटर्न और कम से कम जोखिम का सही मेल चाहिये होता है, ये सब कुछ निम्न इन्वेस्टमेन्ट ऑप्शन्स में मिल सकता है।

गोल्ड मोनेटिसेशन
जैसा कि यहां बताया गया है, यह योजना भारत सरकार द्वारा जनता के तिजोरी में रहने वाले गोल्ड स्टॉक को ब्याज की आय कमाने वाली संपत्ति के रुप में बदलने के उद्देश से शुरु की गई है।  इस स्कीम में, गोल्ड को बैंक अकाउन्ट में वैसे ही जमा किया जाता है जैसे फिक्स्ड डिपॉजिट किया जाता है। गोल्ड ज्वेलरी और गहनों को पिघलाकर बुलियन में बदला जाता है।

जमा करने वाले को जमा के वास्तविक मूल्य पर ब्याज मिलता है। इस प्रकार से आपने यदि पांच लाख रुपयो का गोल्ड जमा करवाया है, तब आपको उसके वास्तविक मूल्य पर ही ब्याज मिलेगा और यह नही देखा जाएगा कि गोल्ड का वर्तमान बाजार मूल्य क्या है। आप इसके लिये ब्याज के रुप में विकल्प चुन सकते हैं कि आपको नकद चाहिये या अपने गोल्ड डिपॉजिट में वृद्धि चाहिये। इसके रिडम्पशन पर व्यक्ति को वर्तमान बाजार मूल्य पर जमा गोल्ड के मूल्य के साथ ब्याज भी मिलता है।

गोल्ड ईटीएफ
गोल्ड ईटीएफ एक एक्स्चेन्ज ट्रेडेड फन्ड (ईटीएफ) है जो कि वास्तविक स्थानीय गोल्ड की कीमतों पर ध्यान रखता है। गोल्ड ईटीएफ के युनिट भौतिक गोल्ड का प्रतिनिधित्व करते हैं जो कि कागज पर या डीमटेरियलायजेशन फॉर्म पर हो सकता है। एक गोल्ड ईटीएफ युनिट एक ग्राम गोल्ड के बराबर होता है और इसके लिये संपूर्ण रुप से शुद्ध गोल्ड को लिया जाता है। गोल्ड ईटीएफ लिस्टेड होता है और इसे नैशनल स्टॉक एक्सचेन्ज ऑफ इन्डिया और बॉम्बे स्टॉक एक्स्चेन्ज लिमिटेड (बीएसई) में किसी भी कंपनी के समान ही स्थान प्राप्त होता है। गोल्ड ईटीएफ खरीदने का अर्थ है आप इलेक्ट्रॉनिक प्रकार से गोल्ड को खरीद रहे हैं। आप गोल्ड ईटीएफ की खरीदी बिक्री किसी भी स्टॉक ट्रेड के अनुसार कर सकते हैं। जब आप वास्तव में गोल्ड ईटीएफ को रिडीम करते हैं, तब आपको भौतिक गोल्ड तो नही लेकिन उसी के बराबर का कैश मिलता है।

गोल्ड ईटीएफ का ट्रेडिंग डीमटेरियलाइज्ड अकाउन्ट (डीमैट) और ब्रोकर के जरिये होता है जिसके कारण इलेक्ट्रॉनिक तरीके से गोल्ड में इन्वेस्ट करने का यह बडा ही सरल तरीका है।

गोल्ड सेविंग फन्ड्स
गोल्ड सेविंग फन्ड्स जिन्हे फन्ड्स ऑफ फन्ड्स भी कहा जाता है, ये वास्तव में एक प्रकार से म्युच्युअल फन्ड्स होते हैं जिनका गोल्ड ईटीएफ पर और अन्य कम अवधि के फन्ड्स पर इन्वेस्टमेन्ट होता है।

गोल्ड एक्युमलेशन प्लान
गोल्ड एक्युमलेशन प्लान एक प्रकार की योजना है जिससे आपको गोल्ड में नियमित मासिक किश्तों के जरिये इन्वेस्टमेन्ट करने का मौका मिलता है। इसकी मदद से आप भौतिक रुप से गोल्ड को एक विशेष योजना अवधि में जमा कर सकते हैं और यह एक से पन्द्रह वर्ष के बीच की होती है, इसमें न्यूनतम सब्स्क्रिप्शन रु. 1000 प्रति माह तक भी होता है।

निष्कर्ष
नए जमाने के गोल्ड इन्वेस्टमेन्ट ऑप्शन्स इन्वेस्टर्स को गोल्ड को ज्यादा प्रोडक्टिव और सही संपत्ति के तरीके से,, विश्वसनीय और लाभदायक प्रकार से इन्वेस्ट करने में मदद करते हैं और इसमें उतार चढाव और अर्थव्यवस्था में बदलाव से कोई फर्क नही पडता। इसके अलावा ये विकल्प सुरक्षित, सस्ते और सरल भी हैं।

आपको यह भी पसंद आ सकता हैं

हमें फॉलो करें

चर्चा में

क्या गोल्ड खरीदना सुरक्षित प्रक्रिया

अपने भविष्य को मंहगाई से बचाने के लिए सोने में निवेश करें

गुढी पाडवा पर सोने का महत्व

गोल्ड प्राईज

क्या आप जानते हैं?