X

गोल्ड क्यों

सम्मान, सामाजिक स्थिति और प्रतिष्ठा - सोना ख़रीदने के सामाजिक लाभ

यह एक विरोधाभास है जिसने दशकों से अर्थशास्त्रियों को चकराया हुआ है – की एक ऐसा देश जो गरीबी से गंभीरता से व्यथित है, भारतीय दुनिया में सोने के सबसे बड़े खरीदारों में से एक हैं। केवल 2015 में ही, भारत में लगभग 900 टन सोना आयात किया गया – जो कि किसी भी अन्य देश की तुलना में अधिक है और वैश्विक आपूर्ति का लगभग एक चौथाई है।

भारतीय समाज के इन विरोधाभासी तत्वों का समाधान संभव है यदि उन कारणों को बारीकी से देखा जाए जो सोने के लिए भारत के जुनून को भड़काते हैं। कारण ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामाजिक प्रकृति के हैं और बहुत ही निकटता से उस 'प्रतिष्ठा' के लेबल से बँधे हैं जो की सोने को प्राप्त है उसकी सुंदरता और दुर्लभता के कारण। प्राचीन काल से ही भारत में सोने को ऊँचा दर्जा प्राप्त है - शासक और सम्राट अपने महलों को सोने से अलंकृत किया करते थे, और प्रायः अपनी उदारता के एक संकेत के रूप में गरीबों को अपने वजन के बराबर सोना दान दिया करते थे।

भारत में, सोने को समृद्धि का प्रतीक माना जाता है; यह सर्वाधिक स्पष्ट रूप से भारतीय शादियों में व्यक्त होता है, जहाँ दुल्हन द्वारा पहने जाने वाले स्वर्ण आभूषणों की मात्रा परिवार की सामाजिक और आर्थिक स्थिति का एक प्रतिबिंब मानी जाती है। 22 कैरेट सोने के साथ भारत की आसक्ति के पीछे सोने और शुद्धता के बीच ऐतिहासिक संबंध होने की एक अहम भूमिका है; अपने शुद्धतम और सर्वश्रेष्ठ रूप में सोने का होना एक वैभवपूर्ण परिवार की बहुमूल्य सम्पत्ति का स्वरुप माना जाता है।

सोने के मौद्रिक मूल्य के अलावा, यद्यपि, दुल्हन द्वारा पहने जाने वाले आभूषणों के साथ एक भावुकतापूर्ण और भावनात्मक मूल्य भी जुड़ा है। आभूषण परिवार की विरासत माना जाता है जिसे दुल्हन एक दिन अपने स्वयं के बच्चों को सौंपेगी, और यह वो धागा है जो एक परिवार की भिन्न-भिन्न पीढ़ियों को एक साथ जोड़ता है। इस प्रकार, सोना सम्पत्ति के एक संकेत से कहीं अधिक है, बल्कि पैतृक यादों और पहचान का वाहक भी है।

सोने की विशिष्टता इसे विशेष अवसरों और त्योहारों पर मित्रों और परिवार को दिए जाने वाले उपहार का एक लोकप्रिय विकल्प बनाती है। चाहे वो एक हल्के गहने, या एक अँगूठी, या एक सिक्के या एक बार के रूप में हो, सोने का कोई भी उपहार, उपहार प्रस्तुत करने वाले व्यक्ति की समृद्धि और उदारता के विस्तार को अभिव्यक्त करता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि उस समय जब फैंसी कारों और डिज़ाइनर जूतों की बढ़ती हुई स्वच्छन्दता के साथ उस पर पैसा उड़ाया जाता है, तो सोने के आभूषण एक अधिक तार्किक निवेश ही नहीं हैं, बल्कि सम्पत्ति की एक अधिक परिष्कृत और गौरवशाली अभिव्यक्ति का भी प्रतीक है। और कारों तथा जूतों के विपरीत, सोना कभी भी फैशन से बाहर नहीं होता और सदैव माँग में रहता है।

सोने के इन सांस्कृतिक और सामाजिक ग्रहणबोधों को समझना न केवल पूर्वोल्लिखित विरोधाभास का समाधान करने में हमारी सहायता करता है, बल्कि सोना खरीदने के महत्वपूर्ण सामाजिक लाभों पर भी प्रकाश डालता है। धन के एक प्रतीक के रूप में, परिवार की प्रतिष्ठा की निशानी के रूप में और सामाजिक स्थिति के एक संकेत के रूप में, महत्वता के मापदंड में सोना, भारत में किसी भी अन्य भौतिक पदार्थ की तुलना में बहुत अधिक महत्व रखता है।

आपको यह भी पसंद आ सकता हैं

हमें फॉलो करें

चर्चा में

सम्मान, सामाजिक स्थिति और प्रतिष्ठा - सोना ख़रीदने के सामाजिक लाभ

गुढी पाडवा पर सोने का महत्व

क्या गोल्ड खरीदना सुरक्षित प्रक्रिया

गोल्ड प्राईज

क्या आप जानते हैं?