प्रीवियस आर्टिकल

स्‍वर्ण उत्‍खनन का भविष्य

3 मिनट पढ़ें

स्टॉक मार्केट में गिरावट का सोने पर असर

703 दृश्य 4 MIN READ
Investors view gold as a hedge against market uncertainties

यह एक भ्रांति है कि स्टॉक मार्केट गिरने पर सोने की कीमत भी गिरती है, जबकि वास्तव में इसका बिल्कुल उल्टा है। कई निवेशक सोने को बाज़ार की अस्थिरता के खिलाफ एक घेरे के रूप में और एक पोर्टफोलियो डाइवर्सिफायर के रूप में देखते हैं।

इतिहास गवाह है कि मार्केट की गिरावट के समय सोना स्टॉक से बेहतर प्रदर्शन करता है।

सोना बनाम निफ्टी

वित्तीय वर्ष 2008-09 में, जब सेंसेक्स लगभग 38% तक गिर गया था, सोने ने 24.58% का प्रतिफल दिया था। इसी तरह, 2012-13 के दौरान, जब निफ्टी स्थिर या गिरावट पर था, तब भारत में सोने की कीमत पूरे उछाल पर थी।

नीचे दिये गये चार्ट का विश्लेषण करें, तो आप देखेंगे कि पिछले दशक में अधिकतर समय, सोना और निफ्टी बिल्कुल बराबर चल रहे हैं।

Source

सोना बनाम एस&पी 500

यदि हम 1976 से चल रहे बदतर मार्केट स्थिति के समय सोने और एस&पी 500 के प्रदर्शन की तुलना करें, तो पिछले 40 वर्षों में, एस&पी 500 में आयी 8 गिरावटों में से 7 में, स्टॉक मार्केट इंडेक्स के मुक़ाबले, सोने की कीमत आसमान छू गयी थी।

2008 के वित्तीय संकट के शुरुआती झटके के समय जब सोने की कीमत गिरी थी, साल के अंत तक कीमत में 5.5% उछाल आ गया था जबकि एस&पी 500 में लगातार गिरावट थी। स्टॉक मार्केट सेल-ऑफ की कुल 18 महीनों की अवधि में सोने की कीमत 25% बढ़ी थी।

सोने का अब तक का सबसे विशिष्ट सेल-ऑफ (1980 के पूर्व भाग में -46%) आधुनिक इतिहास में सोने के सबसे बड़े बुल मार्केट के बाद ही हुआ। 1970 के अपने सबसे सबसे कम पॉएंट के बाद एक दशक बाद ही सोने की कीमत 2300% से ज़्यादा बढ़ गयी थी।

इतिहास फिल्हाल यही बताता है कि स्टॉक मार्केट गिरने पर सोने की कीमत में उतनी गिरावट नहीं आती जितना लोग सोचते हैं। आर्थिक विकास और स्थिरता से स्टॉक को लाभ होता है और आर्थिक संकट से सोने को। जब स्टॉक मार्केट गिरता है तो लोगों में डर ज़्यादा रहता है और ज़ाहिर है निवेशक सुरक्षित आश्रय ढूँढते हैं – और सोने से सुरक्षित कुछ भी नहीं।

फरवरी 2018 का स्टॉक मार्केट क्रैश

सोमवार, 5 फरवरी 2018 को “वॉलमगेड्डन” (वॉल्यूम आर्मागेड्डन) के नाम से जाना गया है। एस&पी 500 113.19 अंकों से गिरा जो कि अब तक का इतिहास का सबसे बड़ा वन-डे पॉएंट ड्रॉप रहा। लेकिन कुल गिरावट थी 124.21 की जो कि सेल-ऑफ के शुरुआत के 24 घंटों के भीतर रही। पूँजी गति और उछाल के मुद्दे के अलावा उल्लेखनीय रहा बिटकॉएन का महत्त्वपूर्ण $6,000 दर।

6 फरवरी को जब कारोबार खुला, तभी बीएसई सेंसेक्स 1200 अंकों से ज़्यादा गिरा और 168 अंक गिरने के बाद, एनएसई निफ्टी 10,498 पर बंद हुआ।

सेल-ऑफ के शुरुआती दौर में, सोने की कीमत ज़्यादा प्रभावित नहीं होती थी, लेकिन जैसे-जैसे स्टॉक की कीमत गिरती गयी, सोना सम्भलता गया, यहाँ तक कि अल्प-कालिक ट्रेज़री से भी बेहतर होता गया। स्टॉक मार्केट का उछाल तेज़ लेकिन कम समय के लिए रहा। द डॉ जोंस इंडस्ट्रियल ऐवरेज 4.6% से गिरा लेकिन एशियन स्टॉक में 6 फरवरी की शुरुआत में उछाल आया, और ग्लोबल स्टॉक इंडिसेज़ की खोयी स्थिरता में कुछ सम्भाल आया। 8 और 9 फरवरी को मार्केट उछाल की ओर जाने से पहले फिर गिरा। सोमवार 12 फरवरी तक द डॉ ने अपने ज़्यादातर साप्ताहिक नुकसान के आधे की भरपाई कर ली थी, और यूरोपीय स्टॉक भी करीबन 30% तक सम्भल गये थे। एशिया के स्टॉक ने इस दौरान अपने नुकसान को बनाए रखा।

हालाँकि सोना एक बार 2 से 12 फरवरी के बीच अस्थिर ज़रूर हुआ, लेकिन यह सिर्फ ट्रेज़री से ही पीछे रहा। यानि, इसने पोर्टफोलियो नुकसान ज़्यादा नहीं होने दिया, और मार्केट में उछाल आने के बाद निवेशकों को तरलता दिलवायी। उस सप्ताह के दौरान, उन दस दिनों में, अमेरिकी डॉलर के सामने जैसे-जैसे यूरोपीय मुद्राएँ कमज़ोर पड़ीं, सोने की कीमत यूरो से 0.9% और स्टर्लिंग से 1.8% आगे रही।

व्यवस्थित जोखिम के समय सोने का आश्रय

आश्रय के रूप में, सोना आम तौर पर उछाल और गुणवत्ता के बहाव का लाभ उठाता है। स्टॉक और सोने के बीच इस विपरीत नाते का मतलब हुआ कि मार्केट जितनी मज़बूती से वापस उछाल मारेगा, उतनी ही मज़बूती से सोने में भी उछाल आएगा। इतिहास के चलन को भी देखें तो पता चलेगा कि 5 फरवरी के सेल-ऑफ के समय स्टॉक की कीमत गिरने पर सोने को तो जैसे कोई फर्क ही नहीं पड़ा।

अपवाद तो फिर भी होते ही हैं। जब मार्केट में सुधार आने पर एक से ज़्यादा सेक्टर प्रभावित होते हैं, या असर लम्बे समय तक रहता है, तब सोना एक प्रभावशाली आश्रय के रूप में उभर कर आता है। 2001 में जब ‘डॉटकॉम बबल’ उभरा, तब भी कोई जोखिम इतना मज़बूत नहीं था जो सोने को प्रभावित कर सके। सिर्फ विस्तृत अमेरिकी अर्थ-व्यवस्था के तंगी में जाने पर सोने में उल्लेखनीय हलचल हुई। इसी तरह, यूरोप के बाहर के निवेशकों ने 2015 के ग्रीक डिफॉल्ट से स्पिलओवर की चिंता व्यक्त की।

निवेशकों के लिए नीति

सोना किसी भी पोर्टफोलियो में छ: मुख्य भूमिकाएँ निभाता है:

  • सकारात्मक दीर्घ-कालिक प्रतिफल देता है
  • डाइवर्सिफिकेशन का विकल्प रहता है
  • मार्केट गिरने पर तरलता देता है
  • ज़्यादा जोखिम-समायोजित प्रतिफल के जरिये पोर्टफोलियो प्रदर्शन को बेहतर बनाता है
  • अधिकतर समय में रियल एस्टेट के मूल्य भी सोने से कम ही रहते हैं

मार्केट बेहद अस्थिर होने पर कुछ भी हो सकता है। लेकिन स्टॉक पोर्टफोलियो के अलावा, सोने की बहुमुखी भूमिकाओं के कारण, बेहतर होगा यदि आप अपने पोर्टफोलियो में पर्याप्त मात्रामें सोना रखें।

लेख स्रोत:

Gold.org रिपोर्ट – मार्केट सेल-ऑफ बोल्स्टर्स: द केस फॉर गोल्ड

Was this article helpful
1 Votes with an average with -1

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

छिपी हुई कहानियां