निवेश
27 Oct 2021

एक निवेश साधन के रूप में गोल्ड फ़्यूचर्स का परिचय

324 दृश्य 4 MIN READ
gold coin stacks

सोना एक दुर्लभ वस्तु है, लेकिन अतीत में हमेशा इसकी माँग रही है। इसकी माँग केंद्रीय बैंकों, सरकारों, संस्थागत निवेशकों और यहाँ तक कि खुदरा निवेशकों द्वारा की जाती है। स्वाभाविक रूप से, समय के साथ, गोल्ड ETF और डिजिटल गोल्ड जैसे सोने में निवेश करने के नए विकल्प अस्तित्व में आए हैं, जिससे सोना और अधिक सुलभ हो गया है। ऐसा ही एक अन्य माध्यम गोल्ड फ्यूचर्स है, जो विश्व स्तर पर कई प्रमुख कमोडिटी एक्सचेंजों द्वारा पेश किया गया है। सोने में सामान्य निवेश की तुलना में फ्यूचर्स थोड़ा अधिक जटिल होते हैं, इसलिए यदि आप उनमें निवेश करने पर विचार कर रहे हैं, तो आपको निम्न बातें जानना आवश्यक है।

हालाँकि, बहुत से नए निवेशक इस शब्द से बहुत परिचित नहीं हो सकते हैं, फिर भी देश में गोल्ड फ्यूचर्स कारोबार में लगे मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज या MCX के साथ, भारत में गोल्ड फ्यूचर्स कारोबार तेजी से बढ़ रहा है। वैश्विक वायदा बाजार विशाल है और इसका दैनिक कारोबार $51बिलियन  का है, जो तेल के बाद दूसरे स्थान पर है।

फ्यूचर्स को परिभाषित करना

किसी भी कमोडिटी के लिए "फ्यूचर्स ट्रेड" की एक मानक परिभाषा होती है। एक मानकीकृत अनुबंध खरीदार और विक्रेता को बाँधता है। यह निर्दिष्ट करता है कि खरीदार भविष्य की तारीख में पूर्व-निर्धारित मूल्य पर विक्रेता से कितनी कमोडिटी खरीदेगा।

यदि हम "गोल्ड फ्यूचर्स" के बारे में बात करें, तो हम उस समय पर तय की गई विशिष्ट शर्तों के साथ सोने में ट्रेड करने की बात कर रहे हैं, लेकिन भविष्य के एक निपटान के दिन के साथ। निपटान का दिन वह होता है जब वास्तविक एक्सचेंज होता है, न कि वह दिन जब शर्तें तय की जाती हैं। खरीदार को अनुबंध की तारीख पर भुगतान नहीं करना पड़ता है (कम से कम पूर्ण रूप से नहीं, आप जो भुगतान करते हैं वह "मार्जिन" है), और विक्रेता आपको कोई सोना भी नहीं देता है।

खरीदने और बेचने की मूल अवधारणा यह है कि डिलीवरी के समय, बाजार दर सहमत मूल्य से अधिक (या कम) होती है, जिसमें खरीदार और विक्रेता दोनों का लक्ष्य लाभ अर्जित करना होता है।

गोल्ड फ्यूचर्स के लाभ

गोल्ड फ्यूचर्स में निवेश के कई फायदे हैं। फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स वास्तव में ट्रेडिंग कमोडिटीज़ की तुलना में अधिक वित्तीय शक्ति और लचीलापन प्रदान करते हैं, क्योंकि उनका कारोबार केंद्रीकृत एक्सचेंजों के माध्यम से किया जाता है। ट्रेडर के पास अधिक वित्तीय शक्ति होती है, क्योंकि वे भौतिक बाजार में आवश्यकता से काफी कम पूंजी से उच्च मूल्य वाली वस्तुओं का सौदा करते हैं। सौदा करते समय उन्हें केवल एक ही राशि की आवश्यकता होती है, जिसे प्रदर्शन मार्जिन कहते हैं। यह मार्जिन, अनुबंधित सोने के वास्तविक बाजार मूल्य का केवल एक अंश होता है।

चूँकि, गोल्ड फ्यूचर्स का कारोबार केंद्रीकृत एक्सचेंजों पर होता है, इसलिए वे अत्यधिक लिक्विड भी होते हैं। इसके अतिरिक्त, आपको सोने के भंडारण के बारे में तुरंत चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि खरीदारों को केवल निपटान की तारीख पर ही सोना प्राप्त होता है। आप संभावित रूप से अपने अनुबंधों को शॉर्ट-सेलकर सकते हैं और भंडारण की आवश्यकता को पूरी तरह समाप्त कर सकते हैं। इसके अलावा, हालाँकि, फ्यूचर्स सोने के दूसरे निवेश की तुलना में जोखिम भरा है, वे आपको अधिक लाभ भी अर्जित करा सकते हैं। ये विशेषताएँ गोल्ड फ्यूचर्स अनुबंधों को सोने का एक आकर्षक और लाभदायक निवेश बनाती हैं।

प्रदर्शन मार्जिन

अनुबंध के दिन भुगतान किया गया मार्जिन सिक्योरिटी या जमा राशि के रूप में कार्य करता है। यह खरीदारों या विक्रेताओं को वृहद-आर्थिक वातावरण में अप्रत्याशित परिवर्तनों की स्थिति में अनुबंध से पीछे हटने से रोकता है, जिससे अत्यधिक लाभ या हानि हो सकती है। मार्जिन को खरीदार या विक्रेता को सौदे से पीछे हटने से रोकने के लिए किसी स्वतंत्र पार्टी को भुगतान किया गया डाउन पेमेंट मानें। भारत में, इस स्वतंत्र निकाय को फॉरवर्ड मार्केट्स कमीशन (FMC) के नाम से जाना जाता है, जो देश के कमोडिटी वायदा बाजार को नियंत्रित करता है।

गोल्ड फ्यूचर्स को प्रभावित करने वाले कारक

चूँकि, गोल्ड फ्यूचर्स अंततः सोने के कमोडिटी बाजार का एक हिस्सा है, अतः सोने के बाजार को प्रभावित करने वाले अंतर्निहित कारक गोल्ड फ्यूचर्स को भी प्रभावित करते हैं। वैश्विक आर्थिक कारक जैसे ब्याज दरें और डॉलर के मूल्य का वायदा बाजार पर काफी प्रभाव पड़ता है। फ्यूचर्स में निवेश करने के लिए, वृहद आर्थिक परिवेश के बारे में जानना और सोने और अन्य असेट के बीच संबंध का व्यावहारिक ज्ञान होना अनिवार्य है।

सोने के उत्पादकों, सोने के खनिकों, केंद्रीय बैंकों और सरकारों से संबंधित सोने की सामान्य माँग और आपूर्ति भी कीमतों को प्रभावित करती है। इन कारकों के अलावा, भारत में त्यौहार और विवाह भी माँग को बढ़ाते हैं, जहाँ देश की संस्कृति में सोना गहराई से रचा-बसा है।

ध्यान रखने योग्य बातें

गोल्ड फ्यूचर्स की समाप्ति तिथि भी होती है। निपटान तिथि से कुछ समय पहले कमोडिटी का ट्रेड बंद हो जाता है, और सौदे निलंबित कर दिए जाते हैं, जिससे ट्रेडर को अपनी स्थिति की गणना करने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है। ट्रेडर को चुनने के लिए बाजार में अनुबंध के कई मानक साइज़ भी उपलब्ध हैं, जिससे इसमें निवेश करना सुविधाजनक हो जाता है। गोल्ड फ्यूचर्स का उपयोग आमतौर पर अन्य सोने पर आधारित निवेश विकल्पों की तरह दीर्घकालिक निवेश के रूप में नहीं किया जाता है, क्योंकि यदि बाजार विपरीत दिशा में जाने लगता है, तो सट्टा लगाने वालों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

अगर आप सोने के बाजार के उतार-चढ़ाव को समझते हैं और अच्छी तरह से सूचित धारणा बनाते हैं, तो आप गोल्ड फ्यूचर्स से भारी लाभ कमा सकते हैं। गोल्ड फ्यूचर्स में ट्रेड के लिए जोखिम वहन करने की क्षमता और विश्व स्वर्ण उद्योग की मजबूत समझ होना आवश्यक है।

Was this article helpful
Votes with an average with

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

छिपी हुई कहानियां