निवेश
28 Oct 2021

वर्ष 2021 सोने में निवेश करने के लिए अच्छा क्यों है?

11333 दृश्य 6 MIN READ
gold bars

अतीत में सोना, मुद्रा के कमजोर होने और मुद्रास्फीति के खिलाफ एक अच्छा बचाव और अनिश्चितता भरे समय में एक सुरक्षित निवेश साबित हुआ है। हमने 2020 में इसकी सच्चाई देखी, जब वैश्विक स्तर पर महामारी फैल गई और सोने की मांग बढ़ गई।

महामारी की पृष्ठभूमि में 2020 में सोना एक प्रमुख निवेश था। महामारी की दूसरी लहर आने के साथ, ऐसा लग रहा है कि 2021 इसी तरह की चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है। सोना इतना अहम निवेश इसलिए है, क्योंकि आर्थिक संकट के समय में भी यह अपना कीमत बनाए रखता है।

सोने की बुनियादी बातें

सोना एक सदियों पुराना निवेश रहा है, और हालाँकि, अल्पावधि में कीमतों में उतार-चढ़ाव की उम्मीद की जा सकती है, किंतु इसकी प्रासंगिकता कभी भी बहस का विषय नहीं रही है। यह सच है क्योंकि सोने की माँग व्यक्तिगत और सरकारी, दोनों स्तरों पर है (दुनिया भर के केंद्रीय बैंक विदेशी भंडार के रूप में सोने का स्टॉक करते हैं)। आज, दुनिया भर के निवेशक सोने को पारंपरिक स्टॉक और बॉन्ड के विकल्प के रूप में देखते हैं, क्योंकि यह जोखिम-समायोजित रिटर्न और पोर्टफोलियो विविधीकरण सुनिश्चित करता है। इसलिए अपने पोर्टफोलियो का एक हिस्सा सोने में निवेश करना हमेशा एक अच्छा विचार है।

सोने की बढ़ती प्रासंगिकता

पिछले कुछ वर्षों में, निवेशकों ने कई कारणों से सोने को मुख्यधारा की असेट के रूप में देखना शुरू कर दिया है। सोने की वैश्विक माँग में 2001 से औसतन 15% की वृद्धि हुई है और इसी अवधि में सोने की कीमत में लगभग ग्यारह गुना वृद्धि हुई है। लोगों ने महसूस किया है कि स्टॉक और बॉन्ड जैसे पारंपरिक निवेश उनके पोर्टफोलियो को सुरक्षित रखने के लिए पर्याप्त नहीं हैं। तथ्य यह है कि यह अन्य असेट से संबंधित नहीं है और अत्यधिक लिक्विड भी है जो निवेशकों को सुनिश्चित करता है कि संकट के समय उनके सभी निवेश प्रभावित नहीं होंगे। पिछले साल सोने का प्रदर्शन केवल इसकी प्रासंगिकता को बढ़ाता है और इसे खुदरा निवेशकों के लिए एक निवेश विकल्प के रूप में सबसे आगे लाता है।

कमोडिटी के रूप में सोना

सोना कमोडिटी इंडेक्स का एक अनिवार्य घटक है। हालाँकि, इसमें ऐसी विशेषताएँ हैं जो इसे अन्य असेट से अलग करती हैं, जो लंबी अवधि में इसके प्रदर्शन को भी दर्शाती हैं। दुर्लभ और अत्यधिक लिक्विड होने के कारण, यह एक सुरक्षित असेट है जो कठिन समय के दौरान आपके पोर्टफोलियो को सुरक्षित रखता है। इसकी आपूर्ति में भौगोलिक विविधता है, जो इसकी अस्थिरता को सीमित करती है। इसके अतिरिक्त, आभूषण के रूप में इसका उपयोग अन्य असेट से इसके संबंध को कम करता है। सरकार के सोने में ट्रेड करने के कारण, इसके मूल्य में अचानक कमी आने की संभावना कम है। इस वजह से यह गंभीरता से विचार करने लायक निवेश है।

भारतीय परिदृश्य

महामारी ने दुनिया भर में सोने की कीमतों में तेजी देखी, जो भारत में 24k सोने के संबंध में लगभग ₹58,000 प्रति 10 ग्राम तक पहुँच गया। हालाँकि, साल 2021 कीमतों में लगातार उतार-चढ़ाव से भरा रहा है, लेकिन इससे लोगों को इस साल सोने में निवेश करना नहीं रोकना चाहिए, और इसके कारण हैं केंद्रीय बजट के दौरान घोषित सीमा-शुल्क में कमी का मतलब है कि खरीदार पहले भुगतान किए जाने वाले 16.26% के बजाय 14.07% कर का भुगतान करेंगे। इस कमी ने भले ही कीमत को प्रभावित किया हो, लेकिन यह 2020 की तुलना में सोने की खरीदारी को अधिक आकर्षक और किफायती बनाता है। इसके अतिरिक्त, SEBI के गोल्ड स्पॉट एक्सचेंजों के लिए नियामक बनने के साथ, अब भौतिक सोने में निवेश करने के इच्छुक लोगों के लिए गुणवत्ता आश्वासन चिंता का विषय नहीं रह जाएगा। केंद्रीय बजट में इस तरह के बदलाव सोने के निवेश को बढ़ावा देते हैं, क्योंकि कीमतों में गिरावट के कारण अधिक लोग सोना खरीदना चाहेंगे।

मुद्रास्फीति को मात देना

Gold and commodity returns in rupees as a function of annual inflation*

Gold returns

पिछले दो दशकों में काफी आर्थिक अस्थिरता देखी गई है, चाहे वह 2008 का शेयर बाजार क्रैश हो या पिछले साल की महामारी। सोने और शेयर बाजार में आम तौर पर एक नकारात्मक सह-संबंध होता है, यही वजह है कि पिछले दशक में सोने की कीमतें लगभग दोगुनी हो गई हैं। शोध से पता चलता है  कि उच्च मुद्रास्फीति परिदृश्यों में सोना जोरदार प्रदर्शन करता है और अपस्फीति होने पर भी यह अपने आप को स्थिर बनाए रखता है। चरम आर्थिक परिदृश्यों, जैसे उच्च मुद्रास्फीति और डॉलर के कमजोर होने में, सोना कई अन्य असेट से बेहतर प्रदर्शन करता है। अपने पोर्टफोलियो का एक छोटा हिस्सा सोने में निवेश करके, आप अपने धन की रक्षा कर सकते हैं और उसमें सुरक्षा बढ़ा सकते हैं।

कम ब्याज दर

कमोडिटी के रूप में सोना ब्याज दरों के प्रति अत्यधिक संवेदनशील है। 2020 में,, ब्याज दरों के लगातार कम होने और डॉलर के उतार-चढ़ाव के दृष्टिकोण से सोने में निवेश को बढ़ावा मिला था। माँग में यह वृद्धि इसलिए है, क्योंकि हर जगह ब्याज दर का कम होना सोने को रखने की सुयोग लागत को कम करता है। यह 2020 में स्पष्ट था, जब ब्याज दरों के अत्यधिक कम होने के साथ-साथ गोल्ड ईटीएफ में रिकॉर्ड प्रवाह हुआ, जिसने सोने की कीमत में वृद्धि में योगदान दिया। 

दीर्घ-कालिक निवेश

Average annual return over the past five and ten years

Avg annual return

निवेशक आर्थिक अनिश्चितता के समय में सोने को सुरक्षित ठिकाने के रूप में देखते हैं और अक्सर अर्थव्यवस्था के स्थिर होने पर इसे बेच देते हैं। हालाँकि, अर्थव्यवस्था का स्थिर होते जाना, सोने के लिए सकारात्मक परिणाम  रखता है, क्योंकि इस दौरान माँग बढ़ती है। लोगों को उपोग करने लायक बढ़िया आय प्राप्त होने के कारण, सोने की माँग बढ़ती है और सोने की कीमतों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यह भारत में विशेष रूप से सच है, जहाँ सोना न केवल एक निवेश है बल्कि सांस्कृतिक महत्व भी रखता है। सोने का प्रदर्शन अन्य वित्तीय असेट के बराबर है, खासकर जब यह आकलन दस साल से अधिक समय के लिए किया जाए। हालाँकि, ब्याज दरों, नई मौद्रिक नीतियों और डॉलर की कीमतों में उतार-चढ़ाव जैसे अल्पकालिक कारक सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव का कारण बनते हैं, लेकिन फिर भी लंबी अवधि के निवेश के लिए सोना एक बेहतरीन निवेश विकल्प है।

चल-निधि

वैश्विक सोने का बाजार बड़ा और अत्यधिक लिक्विड है; वास्तव में, यह कई प्रमुख वित्तीय बाजारों से बड़ा है, जिसमें बांड और स्टॉक शामिल हैं। चूँकि, यह एक दुर्लभ वस्तु है, इसलिए यह अपने मूल्य को बनाए रखेगा। यदि सोने में निवेश करते समय चल-निधि एक चिंता का विषय है, तो बाजार के आधुनिकीकरण ने उस समस्या को हल कर दिया है। जबकि भौतिक सोने को नकदी में बदलने में कुछ दिन लग सकते हैं, सोने के नए जमाने के डिजिटल प्रारूप जैसे कि गोल्ड ETF और गोल्ड फंड को तुरंत भुनाया जा सकता है। यह देखते हुए कि गोल्ड ETF और गोल्ड फंड भौतिक सोने की शुद्धता या भंडारण संबंधी चिंताओं से परे हैं, वे इस साल एक आकर्षक निवेश विकल्प बन गए हैं।

ये कारक बताते हैं कि 2021 के लिए सोना एक आकर्षक निवेश है। हालाँकि, एक सुरक्षित निवेश के रूप में इसकी पारंपरिक भूमिका आज भी सच है, यह आर्थिक स्थिरता और विकास के दौरान भी निवेशकों को सकारात्मक लाभ दे सकता है। किसी भी निवेश के लिए कीमतों में उतार-चढ़ाव सामान्य बात है, लेकिन समय के साथ सोने ने अद्वितीय सकारात्मक वृद्धि दिखाई है। यह अत्यधिक लिक्विड प्रकृति का है और इसकी उपलब्धता के कई प्रारूप इसे एक आकर्षक, सुविधाजनक निवेश बनाते हैं। विस्तृत विश्लेषण से पता चलता है कि अपने पोर्टफोलियो का 5% से 10% निवेश सोने में करने से पोर्टफोलियो के प्रदर्शन में सुधार हो सकता है, निवेश में विविधता आ सकती है और जोखिम-समायोजित लाभ मिल सकता है। अगर आप सोने में निवेश करने की सोच रहे हैं तो इसके लिए यह अच्छा समय है।

Was this article helpful
13 Votes with an average with 1

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

छिपी हुई कहानियां