निवेश
04 Nov 2021

सोना वायदा(गोल्ड फ्यूचर्स) में निवेश करने से पहले जानने योग्य बातें

1108 दृश्य 4 MIN READ
gold and graph

वायदा अनुबंध भविष्य की तारीख पर एक सहमत मूल्य पर किसी वस्तु को खरीदने या बेचने के लिए एक कानूनी समझौता होता है। मान्यता प्राप्त वायदा अनुबंध मानकीकृत होते हैं और वस्तुओं या वित्तीय साधनों के लिए हो सकते हैं। सोना उन वस्तुओं में से है, जिनका एक्सचेंज-ट्रेडेड, औपचारिक समझौतों के रूप में वायदा अनुबंधों के माध्यम से कारोबार किया जाता है।

सदियों से सोना सिक्कों, बार और आभूषणों के रूप में खरीदा और बेचा जाता रहा है। पिछले कुछ वर्षों में, सोने का कारोबार गोल्ड एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड, गोल्ड बॉन्ड, डिजिटल गोल्ड जैसे रूपों में होने लगा है। वायदा बाजार में काम करने वाले निवेशक मोटे तौर पर सट्टेबाज या हेजर्स होते हैं। सट्टेबाज बाजार का जोखिम लाभ कमाने की उम्मीद से लेते हैं, जबकि हेजर्स मूल्य गिरने के जोखिम का प्रबंधन करने के लिए वायदा अनुबंधों में निवेश करते हैं। उद्देश्य चाहे जो हो, वायदा कारोबार केवल वित्तीय और कमोडिटी बाजार के अच्छे ज्ञान वाले निवेशकों द्वारा ही कुशलतापूर्वक किया जा सकता है। यह ज्ञान न केवल उन्हें बाजार जोखिम का प्रबंधन करने में मदद करता है बल्कि वायदा अनुबंध की लागत और विशेषताओं को भी समझने में सहायक होता है।

भारत में सोने के वायदा कारोबार के विभिन्न पहलू 

भारत में मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) के माध्यम से सोने का वायदा कारोबार किया जा सकता है। सोने का वायदा कारोबार सोने को भौतिक रूप से लिए बिना सोने में निवेश करना है। सोने के वायदा कारोबार के निवेशकों का उद्देश्य सोना लेना या उसमें निवेश करना नहीं होता। वे अपने जोखिमों को हेज करने के लिए सोने की कीमत में उतार-चढ़ाव को एक माध्यम के रूप में इस्तेमाल करते हैं।  

सोने के वायदा कारोबार के प्रकार: MCX में सोने का वायदा कारोबार कई आकार के लॉट में होता है। लॉट का आकार आपके लेन-देन की कीमत तय करता है। 1 किलो लॉट आकार के सोने के अलावा, गोल्ड मिनी, गोल्ड पेटल और गोल्ड ग़िनीया अनुबंध हैं जो भारत में वायदा कारोबार में आ सकते हैं। मिनी अनुबंध 100 ग्राम का, गिनीया अनुबंध 8 ग्राम का और पेटल अनुबंध 1 ग्राम सोने का होता है। हालांकि, 1 किलो सोने का ट्रेड लोकप्रिय है, इसलिए यह सबसे ज्यादा लिक्विड है।

सोने के वायदा कारोबार का अनुबंध: सोने का वायदा कारोबार MCX में उपलब्ध है जो कॉन्ट्रैक्ट लॉन्च कैलेंडर के अनुसार होता है। वर्तमान में MCX गोल्ड अनुबंध हर दूसरे महीने लॉन्च होता है जिसकी एक्सपायरी 12 महीने की होती है। अनुबंध लॉन्च के महीने की 16 तारीख को शुरु होती है और इसमें एक्सपायरी वाले महीने की 5 तारीख तक कारोबार किया जा सकता है। सोने की बोली 10 ग्राम के लिए लगाई जाती है, जहां ट्रेडिंग इकाई 1 किलो है, और अधिकतम ऑर्डर आकार 10 किलो हो सकता है।

निपटान(सेटलमेंट) प्रक्रिया: सोने के वायदा कारोबार के अनुबंध में, अनुबंध का निपटान हर महीने की 5 तारीख को किया जाता है। आप या तो अनुबंध का निपटान कर सकते हैं (सोने की डिलीवरी ले सकते हैं) या महीने की 1 तारीख के पहले अपनी स्थिति को स्क्वायर ऑफ कर सकते हैं। यदि आप अनुबंध को निपटाने का विकल्प चुनते हैं तो यह 995 शुद्धता के साथ नंबर किए गए सोने के बार के रूप में होगा।

मार्जिन: हालांकि वास्तविक मार्जिन में उतार-चढ़ाव हो सकता है, फरवरी 2022 के सोने के अनुबंध में शुरुआती मार्जिन 6% या स्पैन मार्जिन में से जो भी अधिक हो, पर सेट किया गया था। इसका मतलब है कि यदि आपके पास वायदा अनुबंध में 1 लाख रुपए की स्थिति है, तो मार्जिन भुगतान 6,000 रुपए का होगा। मात्र 6,000 रुपए का भुगतान करके 1 लाख रुपए के एक्सपोजर का मतलब अधिक लाभप्रदता की संभावना है। यदि आप अनुबंध का निपटान करते हैं, तो आपको लागू होने वाले करों सहित अंतर्निहित सोने की पूरी कीमत चुकानी होगी।

भौतिक सोना: MCX में सोने के वायदा कारोबार में भौतिक रूप से सोने को लंदन बुलियन मर्चेंट एसोसिएशन-प्रमाणित रिफाइनरियों द्वारा शुद्धता के लिए प्रमाणित किया जाता है। MMTC-PAMP भारत में ऐसी ही एक LMBA प्रमाणित रिफाइनरी है। सिक्कों सहित सोने को MCX के क्लियरिंग कॉरपोरेशन के COMRIS सिस्टम में इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में रखा जा सकता है। डिलीवर किए गए या रखे गए सोने का एक व्यक्तिगत परख प्रमाणपत्र और एक उल्लिखित मेकिंग चार्ज होता है। इस तरह से इलेक्ट्रॉनिक रूप से रखे गए सोने का कारोबार और लिक्विडेशन आसानी से किया जा सकता है।

एक उदाहरण के माध्यम से वायदा अनुबंधों को समझना:

  • मान लीजिए कि आप अभी सोने के वायदा अनुबंध में प्रवेश करते हैं। यदि सोने का आखिरी कारोबार मूल्य रु. 50,000 प्रति 10 ग्राम था तो 1 मिनी लॉट के लिए आपके अनुबंध की कीमत रु 50 लाख होगी। 
  • MCX टिक आकार या न्यूनतम मूल्य 1 रुपए/ प्रति ग्राम है। तो, इस अनुबंध में, आपको प्रत्येक रुपए में वृद्धि या कमी के साथ 100 रुपये का लाभ या हानि होगी। इस अनुबंध से आपको यही लाभ या हानि होगी।

सोने के वायदा कारोबार में ट्रेड करने की क्या प्रक्रिया है?

  1. सबसे पहले, आपको MCX में पंजीकृत ब्रोकर के साथ कमोडिटी ट्रेडिंग अकाउंट खोलना होगा। अकाउंट खोलने के लिए एक फॉर्म भरने और बुनियादी KYC दस्तावेज जैसे पहचान और निवास का प्रमाण, पासपोर्ट साइज फोटो, बैंक विवरण आदि प्रस्तुत करने की आवश्यकता होती है। 
  2. आपका अकाउंट खुल जाने के बाद, आपको मार्जिन मनी को ब्रोकर के पास एक मार्जिन अकाउंट में जमा करना होगा। सोने के वायदा कारोबार के अनुबंध दस्तावेज में आपको मार्जिन दर मिल जाएगी। यदि ट्रेडिंग में घाटे के कारण आपकी प्रारंभिक मार्जिन राशि कम हो जाती है, तो आपको एक रखरखाव मार्जिन राशि जमा करना होगा। यह वह राशि है जिसका भुगतान करना प्रारंभिक मार्जिन को बनाए रखने के लिए आवश्यक है। 

इस राशि को जमा करने के बाद आप लॉग इन कर सकते हैं और सोमवार से शुक्रवार तक सोने के वायदा कारोबार में सुबह 9 बजे से रात के 11:30 बजे के बीच ट्रेड कर सकते हैं।

सोने के वायदा निवेशक को सोने के निवेश, उस पर अर्थव्यवस्था के प्रभाव और सोने के ट्रेडिंग की अच्छी समझ होनी चाहिए। चूंकि वायदा अनुबंध में जोखिम के साथ-साथ लाभ भी काफी अधिक होता है, इसलिए उपरोक्त पहलुओं की गहन समझ की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है।

Was this article helpful
1 Votes with an average with -1

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

छिपी हुई कहानियां