प्रीवियस आर्टिकल

गोल्‍ड लुकबुक : एक दिल स्‍टाइल में निकलें

2 मिनट पढ़ें

निवेश
01 Nov 2019

अर्थशास्त्री विवेक कौल के अनुसार — आज निवेश के रूप में सोना इतना महत्‍वपूर्ण क्‍यों है

Vivek Kaul

Economist & Author
206 दृश्य 5 MIN READ

"क्या आपको सोना खरीदना चाहिए?"

यहां तक कि धनतेरस और दिवाली के कुछ दिनों पहले भी, यह साल का वह समय होता है, जब भारतीय मीडिया में उपरोक्त शीर्षक वाली कहानियां दिखाई देने लगती हैं।

लेकिन ये कहानियाँ सिर्फ धार्मिक और त्‍यौहार के नजरिए से सोने को देखती हैं। निवेश के सबसे मूलभूत नियमों में से एक है परिसंपत्ति आवंटन। किसी भी निवेशक को जोखिम की मात्रा के आधार पर, निवेश को परिसंपत्ति की श्रेणियों में फैलाने की जरूरत होती है।

इसका कारण बहुत ही आसान है। हम आसानी से पैसा (ईजी मनी) वाले युग में रह रहे हैं। 2008 के वित्तीय संकट के बाद, संयुक्त राज्य अमेरिका के फेडरल रिजर्व के नेतृत्व में पश्चिमी दुनिया के केंद्रीय बैंकों ने मुद्रा की आपूर्ति के लिए नई मुद्रा की शुरुआत की।

इस विचार के मूल में था — वित्तीय प्रणाली में धन के प्रवाह को निर्बाध कर देना, ब्याज दरों को कम करना और लोगों को उधार लेने और पैसा खर्च करने के लिए प्रेरित करना, और कॉर्पोरेट्स को उधार लेने और विस्तार करने के लिए प्रोत्साहित करना। इससे व्यवसायों को मदद मिलेगी और आर्थिक विकास वापस गति पकड़ेगा।

पश्चिमी दुनिया के लोग पहले से ही उधार के एक दौर से उभर ही रहे थे।

इसलिए, उनकी वास्तव में और ज्‍यादा उधार लेने में दिलचस्पी नहीं थी, कम से कम वित्तीय संकट के तुरंत बाद तो बिल्‍कुल नहीं। दूसरी ओर, कंपनियों ने शेयर खरीदने के लिए पैसे उधार लेने और इसे वापस खर्चने के लिए आसानी से पैसा के युग का इस्‍तेमाल किया।

शेयरों की कीमतों में वृद्धि हुई, क्योंकि कंपनियों के प्रति शेयर आय के रूप में उन्‍होंने वापस शेयरों को खरीदा और वे फिर डूब गए।

इसके अलावा, बड़े संस्थागत निवेशकों ने कम ब्याज दरों पर पैसा उधार लिया और इसे दुनिया-भर के वित्तीय बाजारों में निवेश किया। कंपनी की आय में कमी के बावजूद, कई शेयर बाजारों में इस पैसे की वजह से मुख्य रूप से उछाल जारी रहा।

बैंक ऑफ इंग्लैंड, यूरोपियन सेंट्रल बैंक और बैंक ऑफ जापान ने भी, ब्याज दरों को कम करने और उपभोग, निवेश और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने की उम्मीद में, वर्षों तक पैसा छापना जारी रखा और उसे वित्तीय प्रणाली में शामिल किया।

मुद्रा की आपूर्ति के लिए नई मुद्रा की शुरुआत ने पश्चिमी दुनिया में आर्थिक विकास की वृद्धि में मदद की। 2016 के अंत में, फेडरल रिजर्व ने उस सारे पैसे को प्रचलन में लाने की शुरुआत करने का फैसला किया, जो उसने छापा था और वित्तीय प्रणाली में शामिल किया था।

लेकिन धीमी आर्थिक विकास की चिंताओं और डोनाल्ड ट्रम्प जैसे बहुत ही आक्रामक अमेरिकी राष्ट्रपति के कारण फेडरल रिजर्व को छपे हुए पैसे को बाहर निकालने की अपनी नीति को रोक दिया।

असल में, फेडरल रिजर्व अब हर महीने $60 बिलियन छापने और इसे वित्तीय प्रणाली में शामिल करने की योजना बना रहा है। फेडरल रिजर्व वैश्विक केंद्रीय बैंकों के लिए एजेंडा निर्धारित करता है, और आने वाले दिनों में अन्य केंद्रीय बैंकों को पैसे की छपाई में शामिल होना और विश्व स्तर पर आसानी से पैसा का एक और युग लाना कोई आश्चर्य की बात नहीं है।

यहां यह याद रखना महत्‍वपूर्ण है कि सोना आसानी से पैसा की विरोधी-थीसिस है। इसलिए, इस साल सोना पहले ही डॉलर के संदर्भ में 16% (30 सितंबर तक) से थोड़ा अधिक हो गया है। रुपए के संदर्भ में, वापसी 19% (इंडियन बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन के अनुसार) के करीब रही, क्योंकि डॉलर के मुकाबले रुपए में गिरावट आई है। यह हमें बताता है कि निवेशक इस साल की शुरुआत से ही फेडरल रिजर्व में पहले से ही छपे हुए पैसे वापस करने की बात कर रहे थे।

आसानी से पैसा नीति के साथ, एक और अंतरराष्ट्रीय व्यापक आर्थिक कारक को हमें ध्यान में रखना चाहिए, वह है अंतर्राष्ट्रीय व्यापार युद्ध, जो अभी चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच चल रहा है। अगर इस मोर्चे पर चीजें गड़बड़ाती हैं, तो सोने की कीमतें और भी बढ़ सकती हैं।

2018 में, चीन का आयात बिल 1.7 ट्रिलियन डॉलर था। इस व्यापार का अधिकांश बड़े पैमाने पर डॉलर में किया जाता है। आने वाले वर्षों में, यदि अमेरिका चीनी आयात पर शुल्क लगाना जारी रखता है, तो चीन अपने व्यापारिक साझेदारों को वस्तु विनिमय के सौदे करने के लिए प्रभावित कर सकता है।

यह भारत की तरह होगा, जो र्इरान को तेल खरीदने के लिए रुपए का भुगतान करेगा और ईरान उन रुपयों से भारत से सामान खरीदेगा। इसी तरह, चीन ब्राजील को युआन में भुगतान कर सकता है और फिर ब्राजील चीन से सामान खरीदने में उन युआन का उपयोग कर सकता है।

बड़ी बात यह है कि यदि ट्रम्प चीन के साथ वैसा ही व्यवहार करते हैं, जैसा कि वह अभी करते हैं, तो चीन के लिए अच्‍छी चीज होगी कि वह अपने व्यापार को डॉलर से दूर ले जाए।

यह वह डॉलर है, जो अमेरिका को कुल मिलाकर बेशुमार विशेषाधिकार देता है; जबकि दुनिया के हर दूसरे देश को ये डॉलर लेने पड़ते हैं, अमेरिका तो बस आसानी से उन्‍हें छाप सकता है। सवाल यह है कि क्या ट्रम्प इस बेशुमार विशेषाधिकार को लाइन में लगाने को तैयार हैं? इसे लेकर निवेशकों में काफी डर है। अगर ऐसा होता है, तो आगे चलकर सोने की कीमतों में और भी तेजी आएगी।

भारत के मामले में, अर्थव्यवस्था कमजोर स्थिति में है, जिससे शेयर बाजार के कमजोर प्रदर्शन के मुकाबले मे सोने में भारी गिरावट आई है। इसके अलावा, भारत में माल निर्यात की वृद्धि, विशेष रूप से, विकास का निर्माण करने वाला श्रम-प्रधान निर्यात ढह गया है। इसका एक कारण अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपए का मजबूत मूल्य है। इस कारक को ध्यान में रखते हुए कहें तो, डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपए के बड़े पैमाने पर कमजोर होने की उम्मीद है। एक कमजोर रुपया जल्‍दी ही रुपए में सोने की वापसी को बढ़ाएगा।

इन कारकों को ध्यान में रखते हुए, यह प्रत्येक निवेशक के लिए यह महत्‍वपूर्ण है कि वह अपने पोर्टफोलियो का 10-15% हिस्सा सोने का बनाए। बेशक, यह महत्वपूर्ण है कि किसी भी अन्य निवेश की तरह, किसी को भी सोने पर एक भी पैसा नहीं लगाना चाहिए, लेकिन इसका सिर्फ एक हिस्सा लगाए, ताकि कठिन समय में भी, कुल मिलाकर पोर्टफोलियो वापसी स्थिर रहे।

विवेक कौल ईज़ी मनी त्रयी के लेखक हैं।

Was this article helpful
Votes with an average with

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

Thank you for your feedback. We'd love to hear from you how we can improve more. Please login to give a detailed feedback.

छिपी हुई कहानियां